#दहन किसका

उसको दहन करने का काम किया जा रहा है, जो मूलनिवासियों को बचाने के लिए, इनके लिए युद्ध लड़ा है, उस विष्णु, इंद्र, इनका पुतला क्यों नहीं जलाते जिन्होंने बलात्कार करने का काम किया है | इन विदेशियों ने हमारे मूलनिवासी राजा को लगातार जला रहे है, कानून बनने के …

यह लेख पूरा पढ़े

#राक्षस

आपने असुर को तो समझ लिया, राक्षस को समझे, राक्षस का अर्थ रक्षा करने वाला, रक्षक, यही मूलनिवासी जानवरों की रक्षा करने का कार्य करते थे, जब विदेशी यज्ञों के नाम पर जानवरों को भूनकर खाते थे, तो यही मूलनिवासी उन जानवरों को खाने से रोकते थे, इन विदेशियों का …

यह लेख पूरा पढ़े

#सुर और #असुर, #असुरी

सुर का अर्थ होता है, सुरापान मांस भक्षण, सोमरस दारू शराब पीने वाला | और अ सुर से स्पष्ट है, जो मांस और शराब का सेवन न करें | असुर कोई गलत शब्द नहीं है, यही असुर असली मूलनिवासी है | असुरी वह मूलनिवासी क्रन्तिकारी नारी जिसने हमेशा अत्याचार के …

यह लेख पूरा पढ़े

#मूर्ति के सम्बन्ध में

टीप :- मैंने जिस मूर्ति पूजा की बात की है, वह मूलनिवासियों की क्रन्तिकारी वीरो की नहीं है | क्योंकि ये तो मूर्ति पूजा नहीं बल्कि उनके स्वरुप को याद करने के लिए बनाये गए होते है, लेकिन मूलनिवासी इनकी पूजा नहीं करते, इसलिए कोई भी मूलनिवासी अन्यथा न ले …

यह लेख पूरा पढ़े

#भगवान का बाप

विदेशी ब्राम्हण जब इस देश में आये तो अपने साथ कोई लड़की, अपने औरतो को नहीं लाये थे, इन्होने मूलनिवासी राजाओ को फ़साने के लिए अपने यहाँ से हजारों गोरी चमड़ी वाले वेश्याए लाये थे, वैश्या से बच्चा पैदा होना मुश्किल है, और हो भी जाता है, तो लम्पट, बदसूरत, …

यह लेख पूरा पढ़े

#तर्क की कसौटी में भगवान

आपकी भावना को ठेस न लगे इस लिए पहले आपको अवगत करा दूँ, यहाँ उस भगवान की बात की जा रही है, जो विदेशियों ने अपने अनुसार बनाये है, उस भगवान की बात नहीं की जा रही, जो निराकार है | एक समय था, और आज भी वह समय चल …

यह लेख पूरा पढ़े

#राज करने के लिए वर्तमान मनुवाद, और शोषण

वर्तमान में बड़े स्तर की संसद राजनीति पर गाय-गोबर, गाय माता, हिन्दू-मुश्लिम, देश भक्त, देश खतरे में है, झूठ पे झूठ, आतंक वाद, गरीबी, घर, बिजली, पानी, चरण धोना, बेरोजगारी, विदेश दौरा, महिला का सम्मान, क्या-क्या बताऊँ | फुट डालो और राज करों | ये इनकी नीति है | इन्होने …

यह लेख पूरा पढ़े

#मनुस्मृति से पहले |

मनुस्मृति से पहले ब्राम्हणवाद का वर्चस्व पूरे भारत में नहीं फैला था, यह बुध्द के बाद शुरू हुआ है | उस समय इनका कार्य यज्ञ, पूजा पाठ, ढ़ोंग, ढकोसला, ब्राम्हणवाद को फैलाना था | ( राजनीति स्पष्टीकरण:- मनुस्मृति से पहले इनके राज करने का तरीका, ब्राम्हणवाद था, जो व्यापक रूप …

यह लेख पूरा पढ़े

#मनुवादी किस माध्यम से राज करते हैं ?

जब माया का जाल फैलाकर, लोगों को अपने वश में करके, अपने तरफ करने, मानसिकता को बिगाड़ के, आपस में लड़वा के, आपस में फुट डालके, भ्रमित करके, गुलाम बना के, खरीद के, अत्याचार करके, मजबूर करके, हर प्रकार के उपाय बनाकर जब ये युरेश्याई विदेशी अपना राज स्थापित करते …

यह लेख पूरा पढ़े

#मनुवादी कौन ?

मनुवाद की प्रथा को मानने वाला, व्यव्हारता में लाने वाला, समर्थन करने वाला हर व्यक्ति मनुवादी है | ( राजनीति स्पष्टीकरण:- जब तक आप मनुस्मृति नहीं पढेंगे तब तक मनुवाद को नहीं समझ पाएंगे )

यह लेख पूरा पढ़े