शादी के लिए सरकारी नौकरी वाला ही लड़का चाहिए ऐसा क्यों – भूपेन्द्र लहरे

सरकारी नौकरी चाहिए मतलब माँ बाप सीधे सीधे अपने आप को लालची घोषित कर रहे हैं।

लड़का अगर सरकारी नौकरी में रहेगा तो लड़का अगर मर जाता है किसी कारण वश तो लड़की को अनुकंपा नौकरी तो मिल जाएगी।

लेकिन अगर लड़का प्राइवेट जॉब में है तो अनुकंपा नौकरी कहा से मिलेगी। मतलब शादी से पहले ही माँ बाप अपने होने वाले दमांद के मौत की प्लांनिग करना शुरू कर देते है। वाह भाई वाह.. सरकारी नौकरी का मतलब है नौकर बस बड़ी की मात्रा लगा देने से मालिक नही बन जाते है।

अगर बड़ा नौकर बनने से अच्छा है छोटा मालिक बन के अपने लाइफ को आगे बढ़ाएं। आज के दौर में हर कोई सरकारी नौकरी के पीछे भाग रहा है हो क्या गया है इंशानो को। अरे मालिक बनने का सोचोगे तो दुनिया मे कुछ कर पाओगे और माँ बाप अगर मालिक को अपनी बेटी देंगे तो मालकिन कहलाएगी।

सरकार के नौकर को बेटी देने का मतलब है नौकरानी। बोलो अगर कुछ गलत बोल रहा हु तो। इतना याद रखियेगा की बड़ा आदमी वही बन पाता जो मालिक होता है क्यों कि दुनिया जानता है भारत का सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी साहब जी ना खुद कोई सरकारी नौकरी में है ना ही उनके खानदान में कोई सरकारी नौकरी में है।

साल में एक बार दिवाली में कुछ सामान खरीदना सरकारी नौकरी की पहचान है।
सभी समाज की बहुत बड़ी समस्या यह है कि अपनी लाडली को बिना पूछे माँ बाप उनके भविष्य का फैसला कर रहे है।

लड़की को लड़का पसंद है और लड़की को लग रहा है कि मैं इस इंशान के साथ खुश रह सकती हूं लेकिन मां बाप को लगता है कि अगर लड़का सरकारी नौकरी में नही है तो खुश नही रहेगी।

सरकारी नौकरी वाला लड़का नशा करता हो या जुआरी, सटोरिया हो सब चलेगा। मतलब बेटी को पैसे के लालच में अंधकार में धकेलना अब माँ बाप अपने को अपना फर्ज समझने लगे है।

लड़का अगर सरकारी नौकरी में है तो बिना कुछ पता किये धकेल दे रहे हैं आंख बंद कर के। और समाज की मासूम लडकिया बेचारी माँ बाप के लालच भारी रास्ते मे चलने को मजबूर है क्यों कि कुछ बोलने का हक़ ना लड़कियों को दिए है ना ही देना चाहते है।

बस बोलने का है कि लड़की हो या लड़का सब हमारे लिए बराबर है। हम पूछते है कैसी आदत व्यवहार की है। और लड़की के घर वाले पूछते हैं कि लड़का सराकर का नौकर है या खुद मालिक है। लड़का का आदत व्यवहार सब जायज है सरकारी नौकरी के आगे। अगर पता चल रहा है कि लड़का तो सरकार का नौकर नही है तो बताने वाले का नंबर ही ब्लॉक कर दिया जाता है।

इसी बीच दोस्तो लड़की का उम्र धीरे धीरे 25 पार कर जा रहा है और फिर उस लड़की को ना मालिक पसंद कर रहा है ना नौकर।

लड़की की शादी की सही उम्र है 18 से 22 वर्ष…माँ बाप को लगता है कि मेरी बेटी तो खूबसूरत है इसे तो कोई भी पसंद कर लेगा तो इसी बीच मे नौकरी में कॉम्पिटिशन करवा रहे है अपने बेटी को बीच मे रख कर अगर लड़का शिक्षाकर्मी वर्ग 3 में है तो बोल है की नही मेरी बेटी को शिक्षाकर्मी वर्ग 1 को दूंगा।

अगर लड़की को शिक्षाकर्मी वर्ग वाला पसंद कर ले रहा है तो माँ बाप के मन मे अब फिर लालच आ जा रहा है नही नही मेरी बेटी को बैंक मैनेजर को दूंगा।

अगर लड़की को बैंक मैनेजर पसंद कर ले रहा है तो सोच रहे है लड़की के घर वाले कि हमारी बेटी को तो बाप रे बाप बैंक मैनेजर पसंद कर लिया तो कुछ दिन और इंतजार करते है क्या पता कोई 3 स्टार (टीआई) वाला रिश्ता आ जाये। इसी लालच के चक्कर मे लड़की का उम्र 25 पार हो जा रहा है।

मैं एक लड़का होने के नाते बताना चाहता हु क्यों कि मेरी अभी शादी नही हुई है कि कोई भी लड़का चाहे वो gov. जॉब में हो या Private जॉब में हो 25 साल की ऊपर की लड़कियों पसंद नही कर रहे है।

उम्र को ध्यान में रख कर अगर रिश्ता करेंगे या सोचेंगे तो आज किसी के घर मे लड़कियों की शादी को लेकर माँ बाप चिंता में नही रहेंगे।

लड़की मन ही मन अपने माँ बाप को कोष रही होती है कि काश मेरी सही उम्र में शादी कर दिये होते तो आज मुझे ये दिन नही देखना पड़ता। ऐसा सोच रखने वाली लड़कियां सब 25 पार हो चूंकि है।

और दुनिया की हर लड़की चाहती है कि मेरा भी एक परिवार हो। बस इतनी सी बात लड़की अपने घर मे किसी को बोल नही पाती हैं। क्यों कि बोलने का हक़ इन्हें दिया कौन है??☹

    भूपेन्द्र लहरे मार्गदर्शन विचारक्रांति पत्रकार
16631cookie-checkशादी के लिए सरकारी नौकरी वाला ही लड़का चाहिए ऐसा क्यों – भूपेन्द्र लहरे

One Comment on “शादी के लिए सरकारी नौकरी वाला ही लड़का चाहिए ऐसा क्यों – भूपेन्द्र लहरे”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *