#संविधान का महत्व

एक समय था जब आपके भविष्य का निर्माण ये एंटिना वाले करते थें | आपके साथ क्या करना है, अपने अनुसार से जैसा तैसा करते थें | संविधान से पहले मनुस्मृति को ये कानून बनाये थे, जैसा चाहे वैसा करते थे, संविधान से पहले कोई यहाँ से पैदा लेता था, …

यह लेख पूरा पढ़े

#जय भीम

बाबा साहेब अम्बेडकर के विचार को ही जय भीम कहते है | संविधान की जय बुलाना ही, जय भीम है | मान-सम्मान के लिए संघर्ष ही, जय भीम है | अत्याचार के खिलाफ आवाज, उठाना, संघर्ष करना ही जय भीम है | अपने हक़-और-अधिकार के लिए आवाज उठाना, संघर्ष करना …

यह लेख पूरा पढ़े

#कुछ समझ आया

हे मानव समाज, आज हम यहाँ तक, हजारों वर्षो की पीड़ा को सहकर पहुंचे है, हमें धन रखने का अधिकार नहीं, लाचारी में जिए है, ज्ञान का अधिकार नहीं, सती प्रथा, अग्नि प्रथा, बाल विवाह, देवदासी, यहाँ तक के कपड़े पहनने तक का अधिकार नहीं, पानी पीने तक का अधिकार …

यह लेख पूरा पढ़े

#बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर का संदेश

व्यक्ति जन्म लेता है, कमाता है, खाता है, फिर मर जाता है | अगर खाने के लिए कमाते हो, तो जीवन इसी तरह से कट जायेगा, इससे अच्छा है, बार-बार कमाने खाने के झंझट से, मुक्ति के लिए जल्दी मर जाओ.. अगर जीने के लिए कमाते हो तो, समाज के …

यह लेख पूरा पढ़े

#समाज सुधार कैसे करें ?

समाज को तो आप समझ गए होंगे, समाज सुधार का अर्थ सामाजिक समस्या को सुधार करना, अच्छा बनाने से है, सही राह दिखाने से है | समाज में अगर कोई भी खराबी है तो उसे समस्या के रूप में लेवें | इस तरह से समस्या है, तो समस्या का कारण …

यह लेख पूरा पढ़े

#वर्तमान समय में क्या करें

मूलनिवासियों व्यापार में आओं, अपना दुकान चलाओं | बंद करो, मंदिरों में दान देना, देना है तो बच्चों को किताबें कलम दो, बुक दो | जायदा धन है तो गरीबो को पढाओं अपने पैसे से, स्कूल खोलो | अपने अधिकार को जानों | संगठित हो जाओं | ( स्पष्टीकरण:- समय …

यह लेख पूरा पढ़े

#श्रृंगार और कपड़ा,

कोई भी धर्म अपने अनुसार क्या श्रृंगार और कपड़ा पहनना है, यह नहीं सिखाता | हर व्यक्ति को स्वतंत्रा होनी चाहिए | जहाँ जबरदस्ती है, वहाँ गुलामी है | ( राजनीति स्पष्टीकरण:- वास्तविकता से परिचय कराया गया है | )

यह लेख पूरा पढ़े

#मनुवादी संगठन

आज के समय में इनका बहुत सारे मनुवादी संगठन चल रहा है, और भोले भाले लोगों को जोड़ा जा रहा है, इनकों जोड़ने का मुख्य जरियाँ हिन्दू – और मुश्लिम शब्द है | इसके बिना इनका कुछ नहीं चलने वाला, जो लोंग इन संगठनों से जुड़ रहे है, उनको क्या …

यह लेख पूरा पढ़े

#ब्राम्हणवाद और #मनुवाद_की_जड़

ब्राम्हणवाद और मनुवाद एक थाली के दोनों चट्टे बट्टे है, दोनों का एक दुसरे के साथ भली भांति सम्बन्ध है | वर्तमान में ब्राम्हणवाद को फ़ैलाने के लिए, ये क्या नहीं कर रहे है, और मानसिक रूप से पागल बनाने के लिए भी | इनका गैंग बड़े प्रेम से काम …

यह लेख पूरा पढ़े

किस विदेशी को वोट देना चाहिए

ऐसा जो मनुवाद को नहीं मानता हो और मनुवाद का समर्थक न हो, मनुवाद वाली काम न करता हो, ब्राम्हणवादी ढोंग-ढ़कोसला को समाज के बीच न करता हो, नशाहार न करता हो, जो ब्राम्हणवादी आयोजन में पूजा पाठ, कथा कहानियों में भाग न लेता हों | तर्क वादी हो, प्रकृति …

यह लेख पूरा पढ़े